Thought Turmoils. Hindi poem



उलझनो को बनाता है,
उलझा हुआ मन ,
इक आग जो लग गई है,
बुझती  नहीं है,
ईधन का अनवरत प्रबाह ,
जो कर  रहा है,
सहमा हुआ शारीर ,
इतना भी क्या सहमे कि  ,
हर आहट के मतलब निकले,
हज़ार ,
सामंजस्य प्रकर्ति से,
दूर -दूर तक नहीं,
छूट मिली मानव को,
अपना सामंजस्य बनाओ ,
उत्कृष्ट प्रस्तुति जो है,
उस सर्वे शक्तिमान कि,
शक्तिहीन कर दिया मानो ,
इस मिली छूट ने,
हर पल में क्या हो,
निश्चित कर लिया मन ने,
घटते -घटते घटती है,
थोड़ी बहुत घटनाये ,
ये धुप ये छाव ,
ये पतझड़ ये बसंत ,
ये आग के दावानल ,
समझा तो सबको है,
साथ सबसे निभाना है। 


Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: