Didar to bahut hua… Hindi poem



दीदार तो बहुत हुए ,
लम्बी लम्बी लाइनो में लगकर ,
उन बड़े बड़े परदो  के अंदर से,
और जब ऑंखें मूंदे चाहे ,
तो भी दीदार हुए ,
एक ऐसा भी जमाना था,
छाप जो छूट जाती थी,
छाप जो रह जाती थी,
वो दौर जैसे गुजर चूका ,
तमन्ना और जगाये ,
मन पर जो बोझ है,
खुद की काया का ,
उस जमे हुए मैल का ,
जो ना जाने अनजाने में,
मन में बैठ गया की ,
मन कही लगता ही नही ,
कि जैसे दर्शन नहीं,
लम्बा विश्राम चाहीये। 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: