Jis aadhar se tika hu…



जिस आधार से टिका हु,
वो आधार जेसे हिला ,
उस आधार को आधार ही रहने दो,
प्रशनो से ज्यादा तंग न करो,
बहुत नाजुक जो है वो,
अपने पावो की पकड़ ,
जेसे धटती बढ़ती रहती है,
आधार चले भी गये तो क्या ,
बिना आधार के भी तो,
सरकते है सरकने वाले ,
छलावों  ना छलो ,
कुछ नहीं है,कुछ है भी,
ये तो बबूले है पानी के,
जो बनते है ,बिगड़ते है,
पानी के चंचल धरातल पर ,
आधार का आधार है,
आधार को ढूंढ़ता है,
छलावों के बाजार सजे है,
कुछ भी छल करो,
उन छल को खेलो ,
सब एक से ही है,
छल से न फसो ,
गति के साथ गतिमान हो,
शक्ति के साथ सक्तिमान हो,

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: