Bahut kamjor hu shayad..



ग्लानि बहुत है,
हर बात की चोट पर,
हर वो चीज जो ,
मुझसे जुडी है,
या   मैंने जोड़ ली है ,
सम्बन्ध था या नहीं ,
सम्बन्ध है या नहीं,
कभी कभी तो लगता है,
ये जो आकाश ,
जिसमे अनंत लहरे है,
न जाने कौन सी,
कब कहाँ से आकर ,
मन में झनझनाती हे,
और  जो समझ न आये ,
क्या हुवा है उसे ,
क्यों ग़मगीन है,
इंसान ही तो हूँ ,
नाजुकता ज्यादा है शायद ,
पर आधिकार  तो है,
कुछ करने का,
जिसे होई न समझे ,
जिसकी निंदा हो,
उनकी तो हर बात की ,
अदा का बयां होता है,
शक्ति नहीं है शायद ,
बहुत कमजोर हूँ ,
जो सदा टुटा ही रहता हूँ,
शायद कभी जुड़ा ही नहीं,
कोई तो होता ,
जो जोड़ देता मुझे,
पर सब ,
तोड़ते ही गये सदा। 





Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: