Dil se Dil kee baat



कल पूर्णिमा की रात  थी ,
मेरे मन का चाँद पूरा खिला था,
रोशन हो रहा था चेहरा उनका ,
दमकते चाँद की तरह ,
नूर फेला  था दूर तक ,
वो तो दोनों तन मन से ,
उनके नूर से सराबोर था,
ज़माने का क्या कहना ,
वो तो चाँद में दाग बताता है,
पर समझते ये बात नहीं की ,
ये तो नज़र दूर करने का टीका है,
ये रात यही पर ठहर जाये ,
और खामोश बेठे रहकर भी,
दिल से दिल की बात होती रहे। 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: