hindi poem48

दिशाओ की दिशाए 

तय करता है 
ये घूमता सूरज ,चाँद 
अगर कुछ ऐसा हो 
की दिशा भूल जाये 
ये दिशा देने वालें 
फिर दिशा न रहे 
बस आनंद बच जाये 
गोल जब है सब 
शरु में आखिर में 
जिसकी न शरूआत है 
न कोई अंतिम छोर 
सिर्फ इक आवरण 
से ढका है 
सारी भुलभुलिया 
वो जो हट गयी तो 
उसका क्या रह जायेगा   
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: